मेवाड़ का वीर योद्धा महाराणा प्रताप

महाराणा प्रताप भाग-16

प्रताप आगे बढे । जंगली सूअर के पीछे थोड़ी दूर भागे । फिर उन्होंने अपना भाला  साधकर सूअर को दे मारा । भाला  सूअर की कमर में धंसकर शरीर के उस पार निकल गया । इधर प्रताप का भाला  सूअर को लगा, ठीक उसी समय विपरीत दिशा से भी आकर एक भाला  सूअर के पेट…
Read more

महाराणा प्रताप भाग – 15

” हाँ, महाराणा !” महामंत्री ने कहा –“शिकार के लिए अनेक मचान तैयार है । हांक लगाने वाले जंगल मैं चारों  ओर फ़ैल चुके  हैं ।” फिर उन्होंने सामने वाले टीले की तरफ इशारा करते हुए कहा — “वह नगाड़ा वहां रखा है, उस पर चोट पड़ते ही जंगल में हांक लगनी आरम्भ हो जाएगी…
Read more

महाराणा प्रताप भाग-14

कुम्भलगढ़ के पास का एक भयानक जंगल । “हम राजधानी से काफी दूर निकल आये हैं, महाराणा !” जंगल में एक स्थान पर रुकते हुए झाला सरदार मन्ना जी ने कहा । “राजधानी !” प्रताप ने आश्चर्य से कहा – “हमारी राजधानी कैसी, भाई ! मेवाड़ की परम्परागत राजधानी तो चित्तौडगढ़ में थी । उस…
Read more

महाराणा प्रताप भाग-13

“द्रढ़ इरादे वाले लोगों और राष्ट्रों को कोई बड़ी से बड़ी शक्ति भी पराधीन नहीं रख सकती |” राजगुरु ने कहा — “इस पवित्र ललकार को सुनने के लिए मेरे कान जाने कब से व्याकुल हो रहे थे, प्रताप!””शत्रुओं द्वारा मात्रभूमि के किये गए अपमान का बदला गिन-गिनकर तलवार की नोक से लिए जायेगा |…
Read more

महाराणा प्रताप भाग-12

“कुंवर यागमल प्रायश्चित कर रहे है, सो ठीक है।” चंदावत कृष्ण सिंह बोले—“पर इस बात को वे भी स्वीकार करेंगे, कि वे प्रजा और सामंतों का विश्वास लेकर नहीं चल सकते; क्योंकि अपने छोटे-से शासन – काल में उन्होंने उदयपुर जैसे महत्वपूर्ण स्थान को भी खो दिया है। चित्तौडगढ़ पर सागर सिंह का अधिकार और…
Read more

महाराणा प्रताप भाग-11

“अकबर अब इस पवित्र भूमि पर कभी कदम नहीं रख सकेगा…धिक्कार है तुम्हे !” महामंत्री ने कहा और फिर उन विदेशियों की तरफ देखकर अपने सैनिकों को इशारा करते हुए कहा—“गिरफ्तार कर लो इन्हें !” दो सैनिकों ने आगे बढ़कर विदेशियों, अकबर के उन दूतों को बंदी बना लिया। “डूब मरने की बात है !”…
Read more

महाराणा प्रताप भाग-10

“सब कुछ आपका रहेगा।” दुसरे विदेशी ने कहा। “तब….तब जल्दी लाओ….लाओ, कहाँ करने है हस्ताक्षर ? तब तो जहाँ मर्जी हो और जितने चाहो, हस्ताक्षर करवा लो।” दोनों विदेशियों ने वह संधि-पत्र जैसा यागमल के सामने फैला दिया। एक ने कलम भी हाथ में थमा दी और कहा-“यहाँ हस्ताक्षर कर दीजिये!” लड़खड़ाते हाथों से कलम…
Read more

महाराणा प्रताप भाग-9

गोगुन्दा में यागमल का राज-दरबार ! राणाओं की पगड़ी पहने और तलवार लटकाए यागमल राज-सिंहासन पर बैठा था। उसके कुछ खुशामदी और विलासी मित्र तथा दरबारी भी वहां उपस्थित थे। एक-दो विदेशी पगड़ियाँ भी नजर आ रही थी । विदेशी पगड़ीधारी व्यक्ति शायद अकबर के दूत थे, जो यागमल को अपने पक्ष में मिलाने के…
Read more

महाराणा प्रताप भाग-8

चारों-पाँचों व्यक्तियों ने एक-दुसरे की तरफ देखा| ” आप सालुम्बरा के चंदावत सरदार है ना ?” वृद्ध ने कृष्ण सिंह की तरफ इशारा करते हुए फिर कहा–“और आप मेवाड़ के वृद्ध महामंत्री —क्यों ?” मै और आप मेवाड़ की तीसरी पीडी को देख रहे है, मंत्री जी–है ना ? क्या हम लोग इसीलिए जीवित है…
Read more

महाराणा प्रताप भाग-7

“भूल?” उस वृद्ध ने फिर कहा —” सिसोदिया वंश से अब भूल होने के सिवाय और आशा ही क्या कर सकते है?” “क्या –आ?” प्रताप का मुंह खुला रह गया| उन्होंने बारी-बारी से मन्नाजी और शक्तिसिंह की तरफ देखा| “स्वर्गीय राणा उदयसिंह की भूल का ही तो यह परिणाम है कि एक विलासी बाप्पा रावल…
Read more