मेवाड़ का वीर योद्धा महाराणा प्रताप

महाराणा प्रताप भाग-6

“अरे अभी आगे-आगे देखना क्या होता है !” पहले ने फिर से कहा –“मेवाड़ तो अब नाममात्र का मेवाड़ रह गया है | एक-एक करके सारे इलाके छिन गये है | सुना है, उदयपुर पर भी अकबर का अधिकार हो गया है |” “होता क्यूँ ना ! उस भटियानी के बेटे यागमल को अपने तन…
Read more

महाराणा प्रताप भाग-5

“मेवाड़ राज्य, जो विदेशियों के आक्रमणों के कारण कटता-छंटता पहले ही बहुत छोटा रह गया है, कुंवर यागमल जैसे विलासी के राणा बनते ही वह पूर्णतया अकबर की गोद में चला जायेगा |” राजगुरु ने फिर कहा| “राजगुरु | उदयसिंह ने कहा —” आप धर्म और शिक्षा के गुरु है, राजनीती के नहीं | आपकी…
Read more

महाराणा प्रताप भाग-4

“सिसोदिया वंश की लाज अब तुम्हारे ही हाथ में है, प्रताप ! तुम्हारे पिता ने अपनी विलासिता के कारण जो मान-सम्मान खो दिया है, उसे तुम्हे ही लौटाना है, प्रताप ! मेवाड़ और पुरे राजस्थान के उस गौरव को तुम्हे ही बचाना है, जो कुछ कुल-कलंकी राजपूतों ने विदेशियों के हाथों अपनी बहु-बेटियां सौंपकर मिटटी…
Read more

महाराणा प्रताप भाग-3

“प्रताप !” “अं-हाँ !” प्रताप ने चौंककर देखा | “तुम अकेले यहाँ खड़े होकर क्या कर रहे हो, प्रताप ?” कहने वाले थे राजगुरु | वे बोले –“हम सब तुम्हें उधर खोजते रहे | तलवार चलने का अभ्यास करके तुम चुपके के खिसक आये, यह तुम्हे क्या होता जा रहा है, कुंवर ?” “गुरुदेव !”…
Read more

महाराणा-प्रताप-भाग-2

सभी ने अपने-अपने कपडे पहन लिए थे| तलवारें और भाले भी संभाल लिए थे| इन आठ-दस बालकों में चार तो थे राणा उदयसिंह के बेटे | उनमे प्रताप सबसे बड़ा बेटा था | उसका जन्म ६ मई, सन १५४० में हुआ था | उसकी माता का नाम था महारानी जयजयवंती महारानी जयजयवंती शोन गढ़ के…
Read more

महाराणा प्रताप भाग-1

उदय-सरोवर का तट ! तट से कुछ दूर हटकर घने वृक्षों की डालियों से आठ- दस घोड़े बंधे हुए थे| उनसे इधर एक वृक्ष की छाया में एक थकी आयु का तेजस्वी व्यक्ति खड़ा था| उसकी द्रष्टि सरोवर में तैर रहे बालकों और किशोरों का पीछा कर रही थी| उनके पास तैरने वालों के राजसी…
Read more